शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2009

दीपावली

सर्व मंगल की आकांक्षा का प्रकाश पर्व सभी के लिए मंगलमय हो। जन-मन के मन में सुख , शान्ति ,समृधि का बोध कराने का उत्सव शुभ हो। सुध लाभ नही , शुभ लाभ ! सर्वे भवन्तु सुखिनः .....

किसकी माँ हैं लक्ष्मी

यह उस नही ,उससे पहले वाली दीपावली की बात है (२००७) जब अर्थशास्त्रीय दृष्टि से लक्ष्मी मैया हमारे देश पर पुरी तरह से मेहरबान थीं । कृपा का आलम यह था कि शेयर बाज़ार और न जाने क्या क्या नित नै उंचायीयोँ को छू रहा था । भारतीय अर्थव्यवस्था कि विकास डर नौ फीसदी के पार चल रहा था। विदेशी मुद्रा भंडार २४७ अरब डॉलर जमा हो गया था। इन आर्थिक अकनोँ के बरक्स बीती साल की दीवाली ने सबको रुवांसा कर दिया । पता नही जानकर बताते हैं कि अमेरिका में कोई आर्थिक सुनामी लहर आयी और उसमे पुरा विश्व समा गया। कोई बाज़ार होता है जिसे शेयर कहते हैं, वह धणाम हो गया । बैंकिंग जैसी कोई व्यवस्था होती है , जो शक और शोक के दायरे में आ गई । तब से अब तक लक्ष्मीजी और चंचल हो गई हैं। हलाकि बताने वाले ये३ह अस्वस्ति देते हैं कि हमारी परमपरा में शुरू से ही बचत की आदत रही है , सो हमारे यहाँ उस तरह से लक्ष्मी कभी तंग नही हुई , जैसा की बताया जा रहा है।

और अगर लक्ष्मी नाराज चल रही हैं तो यह कोई नै बात नही है। वे शुरू से ही एक बड़ी आबादी से नाराज ही रही है। अरसे से हम लक्ष्मी और सरस्वती के भक्त रहे हैं --लेकिन हामी दरिद्र और निरक्षर बने हुए हैं। मानव विकास सूचकांक में हम बंगला देश भी पीछे हैं। ऐसा क्यों है? माँ लक्ष्मी की उदारता और कृपा दृष्टि चंद लोगों पार ही क्यों रहती है। 'असंख्यक इत्यादि जनों ' की दरिद्रता दूर करने में वे कोई रूचि क्यों नही लेती। फोर्ब्स patrika ke उजाले पनों पार धनिकों की सूचि में भारतीयों की बढ़त से अघाने बस के लिए हैं असंख्यक लोग। क्या इस समृधि और उसी अनुपात में बढाती गरीबी के बिच कोई नाता है क्या? अरब पतियों और ख्राब्पतियोँ की बढाती लिस्ट से हमारे जन-जीवन पार क्या कुछ फर्क पड़ता है न! आर्थिक उदारीकरण और भुमंदालिकरण के स्वप्नील संसार में बुध -गाँधी-आंबेडकर -लोहिया के दरिद्र नारायण कहा हैं ? आनंद प्रधान जैसे जानकर बताते हैं की आज एक आम भारतीय और सबसे धनिक आदमी की आय के बीच ९० लाख गुना का अन्तर आ चुका है। यह अन्तर उसी देश में है जिस देश में कभी बापू ने परतंत्र भारत को आजाद कराने के दौर में वायसराय की सैलरी पार सवाल उथया था की एक आम भारतीय नागरिक की तुलना में उनकी आमदनी पाँच हजार गुना अधिक कैसे हो सकती है?

ऐसे वर्गों को चिह्न जा सकता है जो अमूर्त किस्म के उदम (जो कही दिखता ही नही.....) के बल पार बहुत कम समय में लक्षमी के बढ़िया वाले कृपा पात्र बने। काले धन , पाप की कमाई सामाजिक प्रतिष्ठा और जनस्वीकृति हासिल कर रहे हैं। माँ लक्षी को चंद लोगों ने कब्जा लिया है। भ्रस्ताचारियोँ , शोषकों को नय्कत्वा प्रदान किया जा रह है। मीडिया और mahanth सभी ghul मिल गए हैं। काले धन कोई muda नही है।

दीपावली के prakash पर्व को prakhyat chintak vidyaniwas जी 'sarvamangal की akanksha का पर्व' कहते थे वह कुछ khas के mangal का क्यों होता जा रह है। ये रोशनी , ये patakhe , ये jagmagate shopin malls , ये samanti gift , ये ujalepan , धन pradarsan ...जन sewakoan

की shararati muskan और दीपावली की shubhkamnyein ...mei वे कहा हैं jinke mehanati hathoan ये sundetr dunia rachi- basi है । माँ लक्ष्मी से हर bar की भांति इस bar भी nihora है की asankhyak इत्यादि joan की दरिद्रता khtma करने की pratharna को ansuni करने के bajay apane agende में rakhane की की कृपा karein , इस bar नही तो agali bar जितना जल्दी हो सके उनकी जीवन की दीपावली prakash से dipt हो , jinhone apani श्रम -sanskriti के बल par यह sunder dunia banayi है। दिए की bati की लौ सभी तक पहुँच सके , इसमे सभी की samarthya bhar कोशिश jarur होनी चाहिए तभी deewapali happy होने की sarthakta sidh होगी।

गुरुवार, 20 अगस्त 2009

जसवंत के जीना

बीजेपी के सीनियर नेता जसवंत 'जीना ' पर लिखकर खूब चर्चित लेखक हो गए । एक ऐसा लेखक साबित हुए जिसकी किताब के कारण घर वाले उसको निकल बहार कर दिए --निर्ममता की हद तक ! पता नही उनके घर वाले किताब पढ़े भी की नही? राजनाथ वगैरह की ऐसी प्रतिभा और सरोकार भी नही रह कभी की लोकार्पण के ठीक एक दो दिन बाद पुरी किताब पढ़ लिए हों। बीजेपी में किताबों के लिए चर्चित और कुख्यात हैं --अरुण शौरी वे भी तो संदिग्ध हैं ,ऐसे में अडवानी और राजनाथ को किताब के बारे में कौन बताया होगा?
जसवंत वाले मसले पर अडवानी की क्या राय रही यह पता नही चल पाया। क्योकि वे जब से उदार और प्रोग्रेसिव हुए हैं तब से बीजेपी उनके हाथ से निकल चुकी है और संघ की बदौलत राजनाथ जैसे जूनियर उनके बराबरी में चल रहे हैं।
जसवंत जी को बहुत बहुत बधाई किताब के लिए नही (क्योकि मैंने पढ़ी नही ) इसलिए की बहुत कम लेखक इतने भाग्यशाली होते हैं की उसके लिखे को बैन कर दिया जाय। आज फिल्मकार क्या क्या जतन naही करते अपने फिल्मों को विवाद में घसीटे जाने के लिए।
भइया ! बीजेपी और संघ को तसलीमा और सलमान रुसदी के मसले पर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की याद aane lagati hai . dohra charitra ,vichardhra ,suvidhabhgi -suvidhajivi stand sabhi daloan or netaoan ki niyati ban chuki hai. Loktanra amar rahe!